महाबलीपुरम के पास बसा एक मछुआरों का गांव

शाम हो रही थी, मेरे कमरे से सूर्यास्त दिख रहा था| नीचे मेरे गेस्ट हाउस का मालिक और उसके साथी अपनी मछली पकड़ने के जाल की मरम्मत करने में लगे हुए थे| कुछ बच्चे खेल रहे थे और अँगरेज़ अपने सितार, गिटार ले कर रियाज़ फर्मा रहे थे|

A year older not a year wiser

    On a warm January morning I stepped out of Vinodhara after taking a long comfortable bath and sleeping on a comfortable bed. I decided to treat myself and why not. I turned 26 in Mahabalipuram, a small sleepy town bustling with travelers from all parts of the world a few kilometers from Chennai. Once... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑