Musings From the Last Village of India

I am on my way to Chitkul, India’s last village before Indo-Tibet border. I missed the morning bus that travels from Sangla to Chitkul everyday and instead I had to take a lift with a local family. You never know when a stupid decision turns into a blessing.

अजब गजब सा किला रायपुर

किला रायपुर में वो सबकुछ है जो आप असली पंजाब में देखना चाहते हैं। दूर दूर तक हरे भरे खेत हैं, खाने के लिए छोले कुल्छे की रेहड़ियां और पीने के लिए कनस्तर जैसी गिलास में भर भर कर लस्सी। यहाँ फ़ास्ट फ़ूड के नाम पर समोसे और ब्रेड ऑमलेट से ज्यादा कुछ नहीं मिलता और लोगो की सादगी देख कर शहर के वातावरण से चिढ सी मचती है।

खीरगंगा: भूली भटकी यात्रा

कुछ 40 मिनट के बाद मै बरशैणी पहुचता हूँ, शाम हो चूकी है, लग रहा हैं जैसे बारिश होगी। मुझे अभी कल्गा तक जाना है, जहाँ से मेरा कल का ट्रेक शुरू होगा। चलते चलते बूंदे टपकने लगती है, आसमान काला होने लगता है, थोड़ी दूर पर बर्फ से ढंकी पिन पार्वती घाटी की चोटियाँ मुझे आवाज़ देती है, नीचे पार्वती नदी की धाराए अपना अलग ही राग गाती है।

Blog at WordPress.com.

Up ↑